‘ये मत भूलो कि अब धोनी 7-8 साल बूढ़ा हो चुका है’

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के खिलाफ खेले गए मैच में मिली 13 रनों से हार के बाद आई पी एल 2022 के इस सीजन से चेन्नई सुपर किंग्स की टीम लगभग प्लेऑफ से बाहर हो चुकी है। चेन्नई सुपर किंग्स को इस मुकाबले से पहले प्लेऑफ मे जाने के लिए सभी मुकाबले को जीतना जरूरी था। लेकिन चेन्नई सुपर किंग्स ने अब तक 10 मुकाबले खेले जिसमें से सात मैच हार के बाद top4 में जाने का चांस बिल्कुल समाप्त हो चुका है।

रविंद्र जडेजा की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स ने 8 मुकाबले खेले जिसमें से सिर्फ दो मुकाबला ही जीत पाए। इसके बाद महेंद्र सिंह धोनी को दोबारा कप्तानी का भार संभालना पर और सनराइजर्स हैदराबाद की खिलाफ महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स ने अपना पहला मुकाबला जीता।

चेन्नई सुपर किंग्स की हालत खराब होने के बाद भी भारतीय टीम के पूर्व कोच रवि शास्त्री को यह लगता है कि, महेंद्र सिंह धोनी अभी भी पूरे आत्मविश्वास के साथ बचे हुए सारे मैच में अच्छी कप्तानी करेंगे और टीम को जिताने में पूरी जान लगा देंगे। रवि शास्त्री का कहना है कि, धोनी के साथी खिलाड़ियों को मोटिवेट करना मुश्किल हो सकता है।

स्टार स्पोर्ट्स पर बातचीत के दौरान रवि शास्त्री ने कहा कि, धोनी की मानसिकता हर गेम को जीतने पर होगी। लेकिन यह मत भूलिए कि महेंद्र सिंह धोनी 7 से 8 साल बुड्ढे हो चुके हैं। आने वाले मैचों में वह अपनी कप्तानी तो अच्छा साबित करेंगे क्योंकि वह एक घायल शेर की तरह है। जो भी खेले एकदम लीडर के साथ खेले अगर हार गए तो प्लेऑफ से से बाहर होंगे लेकिन हम जो भी मैं जीतेंगे उसमें हमारा आत्मविश्वास बढ़ेगा।