‘अगर मैं विश्व कप 2011 खेलता तो सचिन-सहवाग को आउट कर देता’

अक्सर अपने बयानों से चर्चा में रहने वाले पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने एक बार फिर अपने बयान के कारण चर्चा में आ गए हैं. रावलपिंडी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर शोएब अख्तर ने इस बार सचिन-सहवाग को लेकर एक बयान दिया है. उसने कहा है कि 2011 विश्व कप के सेमीफाइनल में अगर वह भारत के खिलाफ खेलते तो सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग को आउट कर देते. इसके साथ ही शोएब अख्तर ने यह भी कहा है कि भारत से मिली हार उसे अब भी परेशान कर रही है.

भारत के लिए 2011 विश्व कप का सेमीफाइनल पाकिस्तानी पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने नहीं खेला था और पाकिस्तान सेमीफाइनल हार कर विश्व कप से बाहर हो गया था. अब 11 साल के बाद शोएब अख्तर ने कहा है कि मैं सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग की कमजोरी जानता हूं, इसलिए मैं उसे सस्ते में उसे आउट कर सकता था.

शोएब अख्तर ने स्पोर्ट्सकीड़ा से बातचीत करते हुए कहा है कि ‘मोहाली में खेले गए 2011 विश्व कप के सेमीफाइनल की हार की यादें आज भी मुझे सताती है. मुझे पता था कि भारत उस समय जबरदस्त दबाव में था. क्योंकि 1.3 बिलियन लोग और मीडिया की निगाहें उस मैच पर टिकी हुई थी.’

उसने आगे कहा कि ‘उस समय हम अंडरडॉग थे और हमें दबाव नहीं लेना चाहिए था. उस समय में काफी दुखी था. क्योंकि मैं वह मैच नहीं खेल रहा था. अगर वह मैच मैं खेलता तो सचिन और सहवाग को आसानी से आउट कर देता. मुझे मालूम था कि अगर इन दोनों खिलाड़ियों को ऊपर से पकड़ता तो भारत नीचे गिर जाता.’

शोएब अख्तर ने आगे बातचीत करते हुए कहा कि ‘मैं पाकिस्तान को हारते हुए देखकर 6 घंटे कैसे बिताये, यह सिर्फ मैं ही जानता हूं. मैं वैसा व्यक्ति नहीं हूं, जो रोता है. मैं चीजों को तोड़ देता हूं. इसलिए मैंने ड्रेसिंग रूम में रखी कुछ चीजें तोड़ डाली. मैं उस समय बहुत गुस्से में और काफी निराश था. ऐसा ही माहौल हमारे पूरे देश में था. यह पहले 10 ओवरों का खेल था.’