12 साल का इंतजार फिर धुआंधार, सूर्यकुमार यादव कैसे बन गए नंबर-1 टी-20 बल्लेबाज

सब्र का फल मीठा होता है, बचपन से ही यह बात हम सुनते आ रहे हैं. लेकिन कितना सब्र और कितना इंतज़ार करें या करना पड़ सकता है, इसका कोई पैमाना नहीं है. मौजूदा वक्त में टीम इंडिया के कप्तान रोहित शर्मा ने साल 2011 में एक ट्वीट किया था, तब उन्होंने कहा था कि बीसीसीआई के अवॉर्ड्स में सूर्यकुमार यादव नाम का एक युवा है, उसपर नज़र रखिए ये धमाल करेगा. तब सूर्या घरेलू क्रिकेट के एक स्टार थे, अब 12 साल के बाद वही सूर्यकुमार यादव दुनिया के नंबर-1 टी-20 बल्लेबाज हैं. यहां तक कि उन्हें सर्वश्रेष्ठ टी-20 बल्लेबाज भी कहा जा रहा है, सब्र का फल सूर्यकुमार यादव के लिए काफी मीठा निकला और यह एक सपने की तरह है जिसे वह इस वक्त जी रहे हैं और क्रिकेट फैन्स इसका लुत्फ उठा रहे हैं. 

इंजीनियर का बेटा बन गया स्टार क्रिकेटर

उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले सूर्यकुमार यादव के परिवार में कोई क्रिकेटर बनेगा, शायद किसी ने नहीं सोचा था. सूर्यकुमार के पिता अशोक यादव BARC में इंजीनियर थे, माता हाउस वाइफ थीं. बचपन में सूर्या बैडमिंटन और क्रिकेट दोनों ही खेला करते थे, लेकिन फिर उन्होंने क्रिकेट चुन लिया. स्कूल क्रिकेट से शुरुआत हुई और उसके बाद चाचा की मदद से क्रिकेट की प्रोफेशनल ट्रेनिंग भी मिलने लगी. कॉलेज लाइफ तक तय हो चुका था कि सूर्यकुमार यादव का करियर अब क्रिकेट में ही बनेगा और वह प्रोफेशनल खेलना शुरू कर चुके थे. 

यह भी पढ़ें  हनीमून पर कब निकलेंगे राहुल-अथिया…?

घरेलू क्रिकेट में धमाल, लेकिन एक लंबा इंतज़ार

सूर्यकुमार यादव ने साल 2010 में ही घरेलू क्रिकेट में डेब्यू कर लिया था, लिस्ट-ए में गुजरात के खिलाफ वह मुंबई की ओर से डेब्यू करने उतरे. उसमें 41 रन बनाए, जबकि पहले रणजी डेब्यू मैच में 73 रन बनाए. यह एक शुरुआत थी, इसके बाद सूर्यकुमार यादव ने घरेलू क्रिकेट में एक लंबा सफर तय किया. सूर्या ने लिस्ट-ए के 118 मैच में करीब 35 की औसत से 3238 रन, जबकि 79 फर्स्ट क्लास मैच में करीब 45 की औसत से 5549 रन बनाए. दोनों में मिलाकर सूर्यकुमार यादव के नाम कुल 17 शतक दर्ज हैं.

हालांकि, घरेलू क्रिकेट में रन बनाकर भी उनके लिए टीम इंडिया के दरवाजे नहीं खुले. लेकिन वह घरेलू सर्कल में एक बड़ा नाम हो चुके थे. इसी दौर में सूर्यकुमार यादव को आईपीएल में एंट्री मिली, उन्होंने अपनी लोकल टीम यानी मुंबई इंडियंस से ही डेब्यू किया. 2012 में सूर्या का आईपीएल डेब्यू हुआ, 2013 में वह एक भी मैच नहीं खेल पाए. इसके बाद कोलकाता नाइट राइडर्स ने 2014 में उन्हें खरीद लिया और यहां से सूर्या का जलवा देखना शुरू हुआ.

यह भी पढ़ें  बुमराह का टीम इंडिया को हमेशा के लिए अलविदा?,पूर्व क्रिकेटर ने दी चेतावनी


गौतम गंभीर की अगुवाई में केकेआर ने सूर्यकुमार यादव को मौका दिया, जिसके बाद वह एक बिग हिटर के तौर पर उबरे. करीब चार साल वह इस टीम के साथ रहे और फिर 2018 में एक बार फिर मुंबई इंडियंस ने उन्हें खरीद लिया और उसके बाद से तो मानो सूर्यकुमार यादव की किस्मत बदल गई. 2018 के बाद से हर सीजन में सूर्या ने अपनी टीम के लिए दमदार प्रदर्शन किया, इनमें 1 सीजन में 500+, 2 सीजन में 400+ और 2 सीजन में 300+ स्कोर उन्होंने किया है. 

कोहली संग लड़ाई और टीम इंडिया में एंट्री

आईपीएल 2018, 2019 और 2020 के दौरान सूर्यकुमार यादव ने काफी रन बनाए, इसके बाद भी उन्हें टीम इंडिया में एंट्री नहीं मिल रही थी. क्रिकेट फैन्स भी इस बात से गुस्से में थे आखिर इतने बढ़िया बल्लेबाज को टीम में जगह क्यों नहीं मिल रही है, इस बीच एक गजब का वाकया हुआ था. रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु और मुंबई इंडियंस के मैच के दौरान सूर्यकुमार यादव-विराट कोहली आमने-सामने आए थे. दोनों ने काफी देर तक एक-दूसरे को घूरा था, यह खास था क्योंकि तब विराट कोहली तीनों फॉर्मेट में टीम इंडिया के कप्तान थे. सोशल मीडिया पर यह तस्वीर काफी वायरल हुई और हर किसी ने इसकी चर्चा की. 

यह भी पढ़ें  कुलदीप यादव की आंधी में उडी श्रीलंका टीम, मचा दिया तहलका

लेकिन आईपीएल 2021 से ठीक पहले 30 साल के सूर्यकुमार यादव को टीम इंडिया का बुलावा आया, अहमदाबाद में इंग्लैंड के खिलाफ उन्होंने अपने टी-20 करियर की शुरुआत की. पहले मैच में उन्हें बैटिंग नहीं मिली, उसका अगला मैच वह खेल नहीं पाए और उसके बाद वाले मैच में उनकी बल्लेबाजी आई. तीसरे नंबर पर बैटिंग करते हुए सूर्यकुमार यादव ने अपने इंटरनेशनल करियर की पहली बॉल पर ही छक्का जड़ दिया और धमाकेदार आगाज़ का ऐलान कर दिया. वह दिन और आज का दिन है, सूर्यकुमार यादव का ये सफर रुका नहीं है.