पाकिस्तान के लिए खेलने वाला लखनऊ में पैदा हुआ टेस्ट क्रिकेटर, जो कभी आउट नहीं हुआ

अफ़ाक हुसैन का जन्म 31 दिसंबर 1939 को भारत के लखनऊ में हुआ. बंटवारे के वक़्त उनका परिवार पाकिस्तान चला गया और कराची में बस गया अफ़ाक ने 18 साल की उम्र में फ़र्स्ट-क्लास क्रिकेट की शुरुआत की. 1957-58 के सीज़न में उन्होंने कायद-ए-आज़म ट्रॉफ़ी में कराची-बी टीम की ओर से क्वेट्टा के ख़िलाफ़ अपना पहला मैच खेला.

क्रिकेट की किताबें उन नामों से भरी पड़ी हैं जिनके बारे में कहा जाता है कि वो अच्छे खिलाड़ी थे लेकिन उन्हें मौके नहीं मिले. ऐसा ही एक नाम है पाकिस्तान के स्पिन गेंदबाज़ अफ़ाक हुसैन का. 60 के दशक की शुरुआत में अफ़ाक एक बड़ा नाम थे और पाकिस्तानी टीम में जगह पाने के मजबूत दावेदार भी थे. लेकिन उनके हाथ महज़ 2 टेस्ट मैच लगे. अफ़ाक ने 1961 में अपना पहला टेस्ट खेला. पाकिस्तान के लिये ये इस साल की दूसरी टेस्ट सीरीज़ थी. इससे पहले टीम भारत के दौरे पर गयी हुई थी जहां पांचों टेस्ट मैच ड्रॉ हुए. इसके बाद अक्टूबर 1961 में टेड डेक्सटर की कप्तानी में इंग्लैण्ड की टीम पाकिस्तान आयी. इसी सीरीज़ के पहले मैच में अफ़ाक हुसैन को पाकिस्तान के लिये खेलने का मौका मिला.

यह भी पढ़ें  रिषभ पंत के न होने पर कोन बनेगा दिल्ली कैपिटल्स का कप्तान? ये नाम रेस में


लाहौर में खेले जाने वाले इस मैच के लिये तीन स्पिनरों को चुना गया – इंतिखाब आलम, हसीब अहसान और अफ़ाक हुसैन. ये पाकिस्तानी क्रिकेट का शुरुआती दौर था और इस वक़्त इनके तेज़ गेंदबाज़ प्राइमरी रोल निभाते थे. फ़ज़ल महमूद (जो पाकिस्तान की कप्तानी भी संभालते थे) और महमूद हुसैन अपनी तेज़ गेंदों के साथ आगे चलते थे. अफ़ाक के टीम में आने से 2 साल पहले इन्तिख़ाब आलम आये थे और उन्होंने शुरुआती दिनों से ही टीम में अपनी जगह लगभग पक्की कर ली थी. अफ़ाक के डोमेस्टिक क्रिकेट के साथी नसीम-उल-गनी भी धीमी गेंदबाज़ी की जगह पा चुके थे. इसके साथ ही हसीब अहसान भी ऐसा नाम बन रहे थे जो टीम का हिस्सा बनता दिख रहा था. ऐसे में, स्पिन गेंदबाज़ी के स्पॉट की दावेदारी के लिये ये बहुत अच्छा समय नहीं था.


अफ़ाक हुसैन का जन्म 31 दिसंबर 1939 को भारत के लखनऊ में हुआ. बंटवारे के वक़्त उनका परिवार पाकिस्तान चला गया और कराची में बस गया. अफ़ाक ने 18 साल की उम्र में फ़र्स्ट-क्लास क्रिकेट की शुरुआत की. 1957-58 के सीज़न में उन्होंने कायद-ए-आज़म ट्रॉफ़ी में कराची-बी टीम की ओर से क्वेट्टा के ख़िलाफ़ अपना पहला मैच खेला. बल्लेबाज़ी के क्रम में उन्हें सबसे आख़िरी में भेजा गया और उनका पहला फ़र्स्ट क्लास स्कोर रहा नाबाद 16 रन. नॉट आउट रहने के मामले में अफ़ाक हुसैन ने एक रिकॉर्ड बनाया. पाकिस्तान टीम में आने के बाद उनके हिस्से 2 टेस्ट मैच आये. 

यह भी पढ़ें  PSL से ज्यादा IPL में पैसा कमाएंगे ये विदेशी खिलाड़ी, कीमत जानकर दंग रह जाएंगे आप

दोनों टेस्ट मैचों की दोनों पारियों में उन्हें बल्लेबाज़ी भी मिली. इन चार पारियों में उनके स्कोर थे – 10, 35, 8 और 13. मज़ेदार बात ये है कि चारों मौकों पर वो आउट ही नहीं हुए. इस तरह से अपने टेस्ट करियर में बगैर आउट हुए सबसे ज़्यादा रन बनाने वालों में अफ़ाक हुसैन सबसे आगे हैं. हालांकि पाकिस्तान के ही हसन चीमा अपने 7 टेस्ट मैचों में कभी भी आउट नहीं हुए. उनके हिस्से 5 बार बल्लेबाज़ी का मौका आया लेकिन उन्होंने 1 ही रन बनाया. 

अपने पहले टेस्ट मैच में अफ़ाक हुसैन ने एक विकेट लिया. ये उनके करियर का एकमात्र टेस्ट विकेट रहा. उन्होंने इंग्लैण्ड कप्तान टेड डेक्सटर को 20 रन पर हिट-विकेट आउट किया. टेड ने अगली पारी में नाबाद रहते हुए 66 रन बनाए और इंग्लैण्ड को जीत तक ले गए. इसके बाद सीरीज़ का दूसरा टेस्ट 3 महीने बाद हुआ. असल में, इंग्लैण्ड की टीम पहला मैच खेलने के बाद इंडिया चली गयी और यहां उन्होंने 5 टेस्ट मैच खेले. इंडिया के हाथों 2-0 से सीरीज़ हारने के बाद इंग्लिश टीम बाकी के 2 टेस्ट मैच खेलने के लिये वापस पाकिस्तान आयी. इन 3 महीनों में अफ़ाक ने कायद-ए-आज़म ट्रॉफ़ी में कराची व्हाइट्स के लिये खेला. जनवरी के तीसरे हफ़्ते में होने वाले दूसरे टेस्ट के लिये जब टीम चुनी गयी, अफ़ाक के नाम को सेलेक्टर्स ने नज़र-अंदाज़ कर दिया.

यह भी पढ़ें  रोहित शर्मा पर टूटा दुखों का पहाड़, रितिका ने इमोशनल पोस्ट ने दहला दिया सब फैंस को