इस खिलाडी ने भारतीय क्रिकेट में रचा इतिहास… मैच के पहले ही ओवर में लगा दी हैट्रिक

भारतीय घरेलू टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी में दिल्ली टीम की हालत खराब हो गई है. सौराष्ट्र टीम के कप्तान जयदेव उनादकट ने मैच के पहले ही ओवर में हैट्रिक लेकर इतिहास रच दिया है. उनादकट ने अपने ही दम पर दिल्ली की टीम को बैकफुट पर धकेल दिया है…

भारतीय टीम के स्टार तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट ने घरेलू क्रिकेट में इतिहास रच दिया है. वह सौराष्ट्र टीम के कप्तान हैं और इस समय घरेलू टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी खेल रहे हैं. उनादकट ने दिल्ली की टीम के खिलाफ शुरुआत करते ही विकेटों की झड़ी लगा दी. उन्होंने मैच के पहले ही ओवर में हैट्रिक विकेट लेकर दिल्ली टीम को बैकफुट पर धकेल दिया.दरअसल, मैच में दिल्ली की टीम ने मंगलवार (3 जनवरी) को टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. मैच राजकोट के सौराष्ट्र क्रिकेट स्टेडियम में खेला जा रहा है. दिल्ली टीम का पहले बैटिंग करने का फैसला एकदम गलत साबित हुआ, जब पहले ही ओवर में सौराष्ट्र के कप्तान जयदेव उनादकट ने हैट्रिक जमा दी.

यह भी पढ़ें  विराट की बेटी वामिका की पहली फोटो आयी सामने, देखकर फैन्स हुए खुश

उनादकट रणजी इतिहास के पहले गेंदबाज बने

31 साल के उनादकट ने मैच का पहला ओवर किया और तीसरी बॉल पर ध्रुव शौरी को रूप में पहला विकेट लिया. उसके बाद लगातार दो बॉल पर वैभव रावल और कप्तान यश ढुल को शिकार बनाया. यह तीनों खाता भी नहीं खोल सके. इस हैट्रिक के बाद दिल्ली की टीम पूरी तरह से लड़खड़ा गई और 53 रनों तक आते-आते उसने अपने 8 विकेट गंवा दिए. इस स्कोर तक जयदेव उनादकट ने 9 ओवर में 29 रन देकर सबसे ज्यादा 6 विकेट अपने नाम किए. इस हैट्रिक के साथ ही उनादकट ने इतिहास सच दिया है. वह रणजी ट्रॉफी के इतिहास में मैच के पहले ही ओवर में हैट्रिक लेने वाले अकेले गेंदबाज बन गए हैं.

उनादकट ने हाल ही में ढाका टेस्ट मैच खेला था

इससे पहले रणजी ट्रॉफी में इस तरह की जल्दी हैट्रिक 2017-18 सीजन में कर्नाटक टीम के तेज गेंदबाज विनय कुमार ने ली थी. उन्होंने मैच में अपने पहले और तीसरे ओवर में मिलकर हैट्रिक पूरी की थी. विनय कुमार ने मुंबई के खिलाफ पहले ओवर की आखिरी बॉल पर विकेट लिया था. इसके बाद अपने तीसरे ओवर की शुरुआती दो बॉल पर विकेट लेकर हैट्रिक पूरी की थी.

यह भी पढ़ें  केएल राहुल की शादी की फोटो, वीडियो आयी सामने

हाल ही में उनादकट ने बांग्लादेश के खिलाफ ढाका टेस्ट मैच खेला था. इसमें उन्होंने 12 साल के इंतजार के बाद टेस्ट क्रिकेट में पहला विकेट हासिल किया था. उनादकट ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ 16 दिसंबर 2010 में सेंचुरियन टेस्ट से डेब्यू किया था.